Friday, May 14, 2010

सात फेरो से धोखा --लेखक : कमलेश चौहान allrights reserved with kamlesh chauahn

रीता कितनी देर पूल मे तैरती रही तथा रवि न जाने कितनी देर से उसके जिसम को यु  कभी मुड़ता डोलता हिलता देखता रहा अपनी नज़रो से निहारता रहा  अचानक उसका ध्यान रीता की बीती जिंदगी पर चला गया..उसने कल्पना मे सुधीर को रीता के जिसम पर कोड़े बरसाते देखा तथा रीता को तरपते  चिलाते पाया.. अपनी ही कल्पना में खोया रवि भागकर रीता को बचाने पानी मे भागा... पानी की तेज लहर मे रीता को अपनी बाजूयो मे यु जकड लिया रीता इस कदर  चिलाती रही लेकिन रवि को न जाने क्या सूझी वोह रीता के अंगो को सहलाता गया..जैसे जैसे रीता का बदन पानी मे तैर रहा था ....... ............

3 comments:

  1. This Hindi Novel is very Strong Hindi Novel about Womenhood, Domestic Violence by both men and women on each other. Are we women are victims only or we do inflict verbal abuse on men too. Decide after reading Hindi Novel " Saath Phero Se Dhokha"

    ReplyDelete
  2. ye poori kahani kahan padhne ko milega.
    uday mishra

    ReplyDelete
  3. uday I am working on the Web site for Novel people will be able to buy on the web soon. Entzar

    ReplyDelete