Sunday, June 5, 2011

परावाणी : The Eternal Poetry: हर लाठी जो सत्याग्रह पर चलती,गांधी को लगती है.

परावाणी : The Eternal Poetry: हर लाठी जो सत्याग्रह पर चलती,गांधी को लगती है.: "फिर भी, तुमने हमसे डर कर , हिंसा का कहर उतारा है. =================== इतिहास साक्षी है इसका , सत्ता की लाठी से अक्सर, जागा करता है श..."

No comments:

Post a Comment