Saturday, December 20, 2014

Does Bollywood Lost The Art Of Writing, Producing and Directing The Good Movies?


Does Bollywood Lost The Art Of Writing, Producing and Directing The Good Movies?

Writer Kamlesh Chauhan (Gauri)

Copyright@Kamlesh Chauhan (Gauri)

 We all love Stars of Bollywood as well we all have some reservation about some stars.  As a young teenager my mother never let me go to see the movies unless she seen new movies first so she can allow me which movie to watch which movie not to watch. I won’t lie to you my blog readers that I was happy with this decision of my mother. I tried to go with my friends to see the New Movies but I was caught and castigated for this disobedience.

Being married so young to a man who was older than me and have seen all the movies of my mother era. His choice of songs were all time favorite of my mother era. So I grew up watching old movies, old songs. Even my children love those songs and movies. Our USA born learn to appreciate Hindu Culture by watching all the TV series like Mahabharata, Ramayana. I saw Upkar, Purb Pachhim, Mugule Azam, Anarkali, Taj Mahal and many many old movies.

 To my dumbfound, where Bollywood lost the magnetism of making good movies? I have admired Sharu Khan and his acting in many good movies. I lost my interest in his movies after he made movie “ My Name is Khan” instead my name is Kaul or My name is Kashmiri Hindu who have been kicked out of Kashmir, killed, butchered , abused , Young Kashmiri Hindu girls been raped, Sold to terrorists cells . However, I found him a very humble man when it comes to meet his Fans in USA. “Mai Hu Na” He or may be his writer or producer did try to defame Hindus by showing a Hindu army man a terrorists? Isn’t that unreal? He defamed both Hindus and Army? Did he ever make a move about our Soldiers getting beheaded?

Now it comes to Amir Khan. What a Movie “ Taare Zamin Per” I saw several time and cried every time how parents can misunderstood their own children due to their lack of their intelligence of their own handicap brain. My respect grew for him even after watching his program Stay Mai Vijayate. Then his personal lives, His divorces is not my concern. We all have dirty laundry in our own close doors. His movie PK brought more disenchantment to me as he repeated the same mistake as others done it in Hollywood.

Now, let’s talk about New rising Producer Vishal Bhardwaj who is so ignorant and shall I call him traitor or enemy of India and Indian Army? Who hide behind the Shakespeare Novel” Hamlet” to spread anti- India sentiments in his Movie “ Haider” and made Shahid Kapoor to yell” Azadi “  which been manipulated and exploited by the militants in Kashmir India . Do we blame Shahid Kapoor here for acting in this movie? I will say “No” or “Yes”. Every actor is need of money and slave to his art so they can play any negative part is a challenge to their art. So I will say Shahid do need another chance to choose the good movies in future. I do feel he has been used for this Movie for his innocence while I know he is a follower of Science and spirituality and good human.
  
Looking at Hollywood watching old movies like “Benhur” and there are some anti-Christianity movies been made as “Lego” even there is discussion about movie “Noah” which many Christians are saying it is distorted biblical facts. At least Movie is not based on true stories. Problem come in India even Satire in the movies been followed by our innocent Indian Youths. Such movies influenced our Indian Youths while in America Satire of their own religion does not shake their faith in Christianity as much in India. Its might be harsh bitter truth and so called modern generation might not agree with me but our Morals, Our integrity is degenerating due to our Bollywood writers, Producers and Directors  and we have lost the charm of Chivalry , effect on our future generation . Today how many political parties are already bashing, accusing our Soldiers who are protecting our nation? How many Political Parties are promoting making India as colony in the name of “Sawraj”?

Don’t take me wrong that I am not condemning corruption, and many wrong “Pakshandis, Immoral People “, Taking advantage of Temple, Mosque or Churches. There are good and bad in every society so if you want to expose wrong doing then Bollywood have to show the both sides of Evil and Noble.  There are always good and bad people. So it is the duty of the Janta not to allow bad dominating movies to good movies and promote good human Values.

Good Values are foundation of Good Society. It provides good Soldiers, Good Citizens and Bright Future. There are ways to show sensuality not vulgarity. Vulgarity is not art. Vulgar Dance, Vulgar Kisses on the road is not expression of Love. Clean Up Your Garbage “Bollywood” You have spread Nudity with vulgarity not as the art. Don’t try to abuse and excuse of Khujrao and Alora Painting. One need to learn how we can educate about sexuality to our upcoming generation to avoid Rape and abused to women. So far Bollywood you failed in this regard.
 
 Note: I have nothing against any particular Actor, Director or Producer as well any writer personally. It’s my love for my Birth land India and the seeing degeneration the values and integrity in Bollywood where our youth follow them. They need to rectify their way of clothing’s and Nudity as well vulgarity.  This my personal opinion you follow or not it’s up to you. But raise of Crime, Rapes does point fingers at you as well indeed educators, and Parents. ( KchauhanGauri)
 
 

 

 

 

 

Friday, December 19, 2014

"पाकिस्तान झुठ , फरेब और दहशत गर्दी से बाहर निकलो"

 "पाकिस्तान  झुठ , फरेब  और दहशत  गर्दी  से बाहर  निकलो"

कमलेश चौहान (गौरी )
कॉपी राइट @कमलेश चौहान 

 
 अगर तुमने अपने ही घर में साँप न पाले होते यह सोच कर कि तुम पड़ोसी के  घर में ज़हर फैला कर सांप से बच जायोगे यह तुम्हारा अपने दिमाग का वहम था।  आज भी यह जानते हुए कि तुमने जो कब्र भारत में और कश्मीर में खोदी थी वह कब्र तुम्हारी ज़मीन पर मासूम माँ के बेगुनाह बच्चो के लिये बन गयी।  हम कश्मीरी हिन्दू जानते है , हम कश्मीरी हिन्दू उन हिन्दू कश्मीरी हिन्दू माँ के दुख जानते है जिसके बच्चो का अपहरण कर के उनके एक एक अंग को काट कर दुनिया में उनकी तस्वीरें लेकर अंतराष्ट्रीय मंच पर भारत पर अपने जुर्म का आरोप लगाया।  तब तो न भारती सरकार न ही भारती मीडिया बोल सका।   यह हमारे मीडिया की कायरता कह लो या बिका हुआ  मीडिया कह लो  हम कश्मीरी हिन्दू ऐसे मीडिया और ऐसी सरकार से शर्मनाक है। लेकिन जिस भारत को तुमने इतने घाव दिये आज तुम्हारे वतन में मासूम बच्चो के शव को देखकर पुरा भारत रोया।  पुरा भारतीय मीडिया रोया।  एक एक भारती युवा तथा बच्चा बच्चा रोया।  लेकिन तुमने इससे क्या सीखा ? कुछ नही सीखा।  उल्टा अपना चेहरा छिपाने के लिये भारत को ही बदनाम कर रहे हो ? तुम क्या देश में फैलायी दहशत गर्दी अपनी सरे ज़मीन से मिटा पायोगे? तुम तो खुद दहशत गर्दी के सौदागर हो।  आज गर पाकिस्तान न होता हर मुसलमान बच्चा , हर हिन्दु बच्चा तुम्हारी दहशत गर्दी का शिकार न होता। भारत अपने दिल मे बदले , धोखे नहीं परन्तु इन्सानियत पालता  है।  तुम्हारे  देश में हर  आतंकवादी आज  आज़ाद घूम रहा हैं। जागो और  नफरत फैलाकर मानवता का नाश मत करो , दुनिया  का भरोसा  तुमसे  उठ चुका है।  तुम्हारे पुर्वज हिन्दू थे यह तुम भूल चुके हो।  धरम के नाम पर तुम लोगो ने दुनिया भर में दहशत गर्दी फैला रखी है जबकि  हिन्दू अभी भी सोया हुवा है। तुमने हमारे  सिख भाइयो  को भी भड़काया  फिर लाहौर में हमारे सिख भाईयो  का इस्लाम को न कबूल करने पर उनका सर काट डाला ?  बहुत रूलाया तुने  भारत को और उसके रोने पर तुमने तालिया बजायी। लेकिन याद रहे  उसका  अन्जाम  आपकी  प्राइम मिनिस्टर भुट्टो ने भुगता फिर भी तुम कुछ नहीं सीखे। अपने घर  में फैलाये ज़हर का इल्ज़ाम पड़ोसी पर मत  लगायो।  अपना कूड़ा खुद  साफ करो।  धर्म के नाम पर ज़मीन  के टुकड़े मत  करो. (गौरी )

Tuesday, December 16, 2014

Save the children of the world.: Kamlesh Chauhan(Gauri)


Save the children of the world.

Kamlesh Chauhan (Gauri)

I condemn the terrorist’s attacks anywhere in the world. USA keep on pouring money in Pakistan and those money does not go to poor people of Pakistan. It’s a responsibilities of citizen of Pakistan to root out the terrorists and terrorism from their soul.

Couple of days ago Saeed Hafiz have conference where he almost poisoned their people against India. I still don’t get it why Nawaz Sharif let that conference with took place on its soil? There are all the evidence India and USA gave to Nawaz Sharif but Pakistan played a dumb role in this regard.

Terrorism was sponsored in India from Pakistan which started from Punjab to Kashmir then we heard almost everywhere in the world. Pakistan still blaming India instead looking in to its own home and that’s they Tyranny of Pakistan. It’s time for Pakistan to ban all the terrorists’ trainings and Let India take care of Kashmir.  People of Pakistan need Love, Peace and education to be part of progressive world than getting known for terrorism. Stop talking about revenge. Stop accusing India for everything for your own actions. Indians are very forgiving people which Pakistan take full advantage of it.

Religion does not teach to train Suicide Bombers, Stone Pelted and hating other way of life. God made one earth to live for mankind. God gave us one roof name sky to have shelter under. God created rainbow for all of us to enjoy the seven colors of the world. Then why in the world we want to divide every nation in to separate place in the name of Race and Religion. If you really believe in One God then learn to live under one roof.

I am so sad Pakistan is not cleaning the terrorism from his soil. USA should only give money to Pakistan when Pakistan wipe out all the terrorists groups from Pakistan, POK  to Kashmir India. Save the Children of the world.
 
अल्लाह तेरो नाम ईश्वर  तेरो नाम। सब को सम्मति  दे भगवान। 
 
 

 

Wednesday, December 10, 2014

क्या हिन्दू होना गुनाह हैं ?
लेखिका : कमलेश चौहान (गौरी )

कैलिफ़ोर्निया के एक सर्रीटोस के एक शहर की शाम  को सात बजे हज़ारों सवाल जाग्रति की ऐन. जी. ओ .के  अधिवेशन में आये लोगो ने  पूछे " क्या हिन्दु होना पाप है ? क्या हिंदुत्व देश को बांटता है ? क्या हिंदुस्तान को हिन्दुस्तान कहना गैर कानूनी है ?जब भी आता है लब पर हिन्दू नाम उसे संप्रदायिक क्यों कहा जाता?
सबसे पहले  गायक रचना  ने देश भगती के गीतो से सभा के लोगो को अपने बिछड़े वतन भारत की याद दिलायी।  उसके बाद  डाक्टर गडसाली ने वन्दे मातरम के संगीत से श्रोतागणो को   मुग्ध  किया।  उसके बाद अपना माइक  मंच  प्रबंधक जैश पटेल को दिया।  जिन्होंने सभा के आने वाले  सभी लोगों का धन्यवाद किया। 
 हर्ष ध्रुव  जो  ओवरसीज बीजेपी के प्रधान है  उन्हों ने लोगो को बताया कि जाग्रति ने हमेशा भारत की एकता के लिये कुछ न कुछ कार्यक्रम किया है जब कश्मीर में हिन्दू लोगो के साथ जुल्म हो रहे थे तो १९९० में  हुए यह मिशन बनाया है कि " नो नेशन शुड भी  डिवाइडिड इन  दा नाम ऑफ़ रेस ऐंड  रिलिजन" उसके बाद उन्होंने अपना माइक  प्रबोधन डॉक्टर स्याल को दिया जिन्होंने नवंबर १६, २०१४ को  सभी वक्ता की  लोगो को जानकारों दी।  
 
जब भी देश में आपत्तिकाल आया सबसे पहले हिन्दू की गर्दन काटी गई।  आज तक हिन्दू के गले कट जाने के बाद किसने लगाये नारे? जब भी किसी ने कोई अपराध किया तो उसके धर्म पर हिन्दू को  ही गाली  दे दी  गयी। सीमा की रक्षा कर रहे सिपाहियों पर पीठ पर वार करते हुऐ दुशमन उनके गले काट काट कर भारत का उपहास उड़ाते रहे और हम सब लाचार हो कर एक दुसरे पर ही उंगलियाँ उठाते रहे। 

इन सवालो जवाब देने के लिये जाग्रति सस्था ने डॉक्टर रिचर्ड बेनकीन जो अमेरिका में  सक्रियतावादी और लेखक भी है, उनकी पुस्तक" जेनोसाइड ऑफ़ हिन्दुस् इन बंगला देश - एथनिक क्लींजिंग ऑफ़ हिन्दुस् इन बंगला देश " का  लोकापर्ण  किया गया। 
 
  डॉक्टर  रिचर्ड  ने सबको हैरान करने वाली घटना बताते हुए कहा कि बंगला देश के हिन्दू पर जब हमला होता हो वहा की पुलिस  हिन्दू पर हमला करने वाले मुज़रिम पर कोई कार्यवाही ही नहीं करती।  २७ जुलाई २०१३ मानव अधिकार के सक्रियतावादी रबिन्द्रा घोष  तथा उनके साथियों पर इतना खतरनाक हमला किया गया लेकिन पुलिस से शिकयात करने पर भी सरकार ने अपराधियों पर कोई कार्यवाही नहीं की।
 
यहा तक कि पहली अप्रैल , २०१२ को रबिन्द्रा घोष की ८७ साल की माता जी को कई लोगो  ने वार किया लेकिन  बंगला देश  की सरकार ने आज तक किसी को भी  सजा नही दी।  उसका एक ही कारण है क्योंकि हिन्दू जब जब जख्मी हुआ अपने ही हिन्दू ने कभी एकता नही दिखायी और ना ही भारत की सरकार ने भारत से बाहर  विदेशो में बसने वाले हिन्दू के लिये आवाज उठायी। दुनिया के किसी कोने में मुस्लमान या ईसाई के साथ कुछ भी होता है उनका सारा वर्ग एक हो जाता है। लेकिन अगर हिन्दु आवाज उठाये तो उसे भगुवा और जातिगत के नाम से शर्मिन्दा किया जाता है। 
 
अब सवाल उठता है कश्मीर जो काश्यप ऋषि की धरती पर आज हिन्दू इस कदर विविश है कि  जो  अपनी मेहनत से बनाये घर वह कश्मीर में छोड़ आये थे , आज तक वह अपने ही   घरों में  वापिस नही जा सके। 
 
जमाते इस्लामी और पाकिस्तान की पुर्व प्रधान मंत्री  श्री मति भुट्टो ने ऐसी नफ़रत की आग जलायी को वह कश्मीरी मुस्लिम जो  अपने कश्मीरी हिन्दू से दिवाली और ईद साथ साथ मनाया करते थे। उन्ही  के सामने ही  हिन्दू औरतों को काट कर जेहलम में  फैंक दिया गया, जब देश के अन्य हिन्दू भाई आराम की नींद सो रहे थे।
 
 कैलिफ़ोर्निया के डाक्टर अमृत नेहरू ने बताया कि " मैं यहां अपने कश्मीरी हिन्दू की बात करना चाहता हूं फिर भी मै इतना बता देना  चाहता हुँ कि  मै  किसी भी जात और धर्म के ख़िलाफ़ नहीं हूं। लेकिन १९४७ में १५ फ़ीसदी हिन्दू थे जो आज घट कर सहम कर , कुछ अपनी लाचारियों से ज़ुल्म सहते गये।  उनका कसुर यह था कि वह हिन्दू थे।  हिन्दू कौम कश्मीर में एक जुर्म हो गया। तलवार की नोक पर हिन्दू की लड़कियों को अगुवा कर लिया गया बेचा गया और धर्म भी बदला  गया। यह थी  पाकिस्तान की साज़िश जिसने भोले भाले अनपढ़ मुसलमानो को और कटर मुसलमानों को पैसे दे दे कर कश्मीर की वादी में हिन्दू के खुन की नदियां बहा दी।   जो बचकर आ गये उन्होंने कैम्पों में इतनी बुरी ज़िन्दगी काटी भारती सरकार  ने उनकी खबर तक न ली "
 
डॉक्टर अमृत नेहरू की आँखों में जो आँसू बह रहे थे सभा में आये लोगो को भी रुला दिया।  यहां तक जो गरीब कश्मीरी हिन्दू थे , जो कश्मीर नहीं छोड़ सके उन्होंने घरों के छतों से अपनी इज़्ज़त बचाने के लिये छलांगे लगा दी।  कर्फू नाईट की मूवी भी बना  दी गयी।  हैदर मूवी में भी हमारे देश के  सैनिकों पर उंगली उठा दी गयी , हमारे देश की मीडिया को  या बॉलीवुड को कश्मीरी हिन्दू के साथ हुई बेइंसाफी कभी याद नहीं आयी। आज तक भारत के  किसी निर्माता को कश्मीरी हिन्दू के साथ हुई बेइंसाफी , उनकी लड़कियों और बच्चो पर हुए ज़ुल्मों की सच्चाई नहीं मिली। 
 
अब बारी आयी पाकिस्तान में रहने वाले हिन्दू सिंधी  रमेश रामनानी जो पाकिस्तान के वासी थे। उन्होंने बताया की अगर भारत के हिन्दू ने अपने आप को ना संभाला , अगर उन्होंने हिन्दू राष्ट्रवाद होने को बुराई समझी तो हिन्दु का हाल भी वही होगा जो पाकिस्तान और बंगला देश और कश्मीर के हिन्दू का हुआ है।
 उनका यह भी कहना था  हिन्दू होने का अर्थ यह नहीं की हम दूसरे धर्म से नफरत करे या हम उनसे भाईचारा न बढ़ाये। लेकिन पाकिस्तान से जब हम हिन्दु  हिन्दुस्तान आना चाहते है  तो  हमें हिन्दुस्तान का वीजा भारत सरकार नहीं देती। जबकि बंगला देश तथा पाकिस्तान के  मुसलमानो को बॉलीवुड में , व्यापार करने के लिए भारत सरकार अनुमति देती है।  पाकिस्तान में रहने वाली हिन्दू लड़के और लड़किया अगर बॉलीवुड या हिन्दुस्तान में काम करने के लिये आना चाहते है तो उनको भारत सरकार कभी वीजा  नहीं देती।

उसके बाद आए सभा के लोगो ने सभी वक्ता से सवाल पूछे कि भारत की एकता को कायम रखते हुए , भारत की डाइवर्सिटी को कायम रखते हुए हिन्दू को कैसे जागरूक किया जाये।
  ऐसा क्या  है की हमने आजतक हिन्दुकुश के नरसंहार से कुछ क्यों नहीं सीखा? धर्म कभी नहीं सीखाता  किसी से बैर करना। हमारी सेना में अगर हिन्दू और सिख अपने भारत के लिये लड़ते है तो हमारे भारती मुसलमान भी भारत के लिये लड़ते है।  हम सब को यह एकता बनाये रखनी है।  लेकिन जब तक पाकिस्तान और बंगला देश जैसे राज्य भारत की डाइवर्सिटी को उसकी  इज़्ज़त और उनके  एक साथ शांति बनाये रखने की सभ्यता को नही समझते तब तक भारत की सरकार को ऐसे पड़ोसी से दुरी बनाये रखनी होगी। हमें अपनी सरहदों पर बहुत सख्त रक्षा करनी होगी। 
 
प्रोग्राम के अन्त में सबने " अल्लाह तेरो नाम , ईश्वर तेरो नाम की प्राथना भी की और सभा में मुस्लमान भाइयो ने भी भारत की एकता और आपस में धर्म के नाम पर नफरत मिटाने की कस्मे खायी।  उन्होंने ने भी कहा " कश्मीर भारत का अटुट हिंसा हैं और अटुट रहेगा।  धर्म के नाम पर कश्मीर या कोई भी भारत का हिस्सा भारत से अलग नहीं हो सकता। न हिन्दू होना गुनाह है न ही मुस्लिम होना।  नफरत की आग हम सब को बरबाद कर देगी।  हम हिंदुस्तानी पहले है , हम भारती पहले है फिर हम हिन्दू है और मुसलमान हैं।  " कश्मीर की रक्षा करनी है" के नारे  से पुरा माहौल देश भक्ती की भावना में डूब गया। 
 
इस डिबेट में भाग लेने वाले रे करडोवा ,  फ्रैंक  अडामो  को  इस शाम को  प्रोत्साहन  तथा अमेरिका में हिन्दू की परेशानियों  का जिकर अमेरिका  की संसद में पेश करने के लिए उन्हें विशेष रूप से  सम्मानित  किया गया। डॉक्टर परवीन  स्याल जिन्होंने सभा तथा सभी व्यकता को प्रबोधन किया।
Copy Right@ Kamlesh Chauhan (Gauri)

Friday, December 5, 2014

Soldier's Soliloque - Kamlesh Chauhan(Gauri) "मेरे देश के जवानो का ठंडा जिस्म अपनों से बाते हुए कहता है।"

  "मेरे देश के जवानो का ठंडा  जिस्म अपनों से बाते करते  हुए कहता है।"
 
(कमलेश चौहान (गौरी ) 

मेरे देश वासियो मैं कवि नहीं हूं , मुझे कविता नहीं आती।  मेरे भारत वासियो  मै कोई उपन्यासकार नहीं मुझे कोई कहानी भी लिखनी नहीं आती।  जिस दिन मैंने जन्म लिया था भारत की भूमि पर  उसी दिन से अपना नाम शहीदों में लिख दिया था। 

मुझे जनम देने वाली जननी मेरी माँ , जब लायेंगे तिरंगे से लपेट कर मेरे बेजान जिस्म को तुम मझसे बाते करना , आँखों में आंसू मत लाना , तेरे आंसू मै पोंछ नहीं पायूँगा , माँ तेरी ही कोख़ में फिर बार बार जनम लुंगा , तू महान है मेरी माँ।  काश ! मेरा भारत करे दुश्मनो पर अब युद्ध का ऐलान , आतंकवादियों को  मत दो अपना बलिदान।  मेरे साथ जो कारवाँ  में आये है वह मेरे सिख भाई भी है , मुसलमान भाई भी है उनको भी दो अपना प्यार उनको भी दो मेरे जैसा सम्मान। फिर कहता हूं ,,

मेरी माँ , तू  है एक शहीद की माँ मेरा ठंडा जिस्म देख कर रोना मत। 
मेरे माननीय पिता ,मेरे जिस्म के सुखी खुन के छीटों को देख रोना मत। 

कहना मेरी मासुम बहना को टुटा नहीं  तेरी राखी का धागा तेरे भाई की कलाई से। 
मेरा भाई देश के लिये आज शहीद हुआ  गर्व से कह देना अपनी प्यारी सखीयो से। 

मेरी जीवन संगनी काहे को है तू इतनी उदास , काहे को पोछा यह मांग का सिन्दूर। 
मत तोड़  यह कलाई की चूड़िया उठा मेरे खून की बुँदे बना अपनी मांग का सिन्दूर।   

कह देना मेरे ललने को , जो आज तेरी गोंद में खेल रहा है , जिसने अभी मुझे देखा भी नही। 
हो कर बड़ा बन जाना अपनी भारत माँ का रखवाला ,आतंकवादियों के बारूदों से डरना नहीं। 

सुनो एक बार मेरे देश वासियों भुलाकर धर्म और जात बनायो भारत को अपना धरम। 
यही है अल्लाह,यही है राम  यही है गुरु  यही है धाम  उठो करो देश के लिए शुभ करम। 

(गौरी)

यह एक वीर की एक सिपाही की अपने से स्वयं से बात करने में विलाप है।  यह कविता नहीं है।  यह उस सिपाही के शब्द है जो आतंकवादियों को शहीद नही , बहादुर नही बल्कि इन्सानियत का दुश्मन मानता है।  उसकी यह ललकार है देश के दुश्मनों से , मेरे भारत में की आत्मा को ललकारने वालो अगर हिम्मत है तो आमने सामने युद्ध करो।  आतंकवाद फैलना कायरो का काम है।  अपने देशवासी  जो देश में नेता बन कर दुश्मनों की भाषा बोल रहे है उनके बीच रहते हुए अपने परिवार वालो को उत्साह देते हुवे अपना सन्देश दे रहा है कि उठो गर्व करो की हम देश पर कुर्बान हो गये। और आज से देश के हर सरहद पर सेना का जाल बिछा  दो। 

Thursday, May 29, 2014

Singh Garjana: सात समंदर पार भी चली मोदी लहर : कमलेश चौहान (गौरी...

Singh Garjana: सात समंदर पार भी चली मोदी लहर : कमलेश चौहान (गौरी...:  कैलिफ़ोर्निया : १६ मई की शाम को गूंज उठी वन्दे मातरम की धुन तथा नमो नमो  के नाम की गूंज अमेरिका के घरो और मंदरो में। अमेरिका के अनेक राज्...