Friday, December 18, 2015

No Creativity in Bollywood Left? Or are they Lazy? Or they just want to mislead the people? Why to Copy Hollywood.  Dilwale is a Copy of Hollywood Movie title “Best Of Me”(Gauri)


It’s very easy for us to point fingers why Hindu protest against Bollywood Movies?. Now think Hard. Do we really hate Actors in the name of Race, Religion and Cast of the Actor? You know all the answer which is what? Its Big “ No” If Indian Hindus  ever had hated Actors for their Race and Religion then Sharukh Khan could not have been called Super, or King or Baadshah over a excellent Handsome Hrithik Roshan? Who is young and better Dancer, Actor and More talented than Sharu Khan?  If Hindus were  hated any one just becoz of the race and religion do u think   Waheeda Rehman, Nargis , Surya was adored by more  Hindus more than  any past Heroines even in old ear who are considered  good actresses and beautiful over many Hindu actresses . Madhubala was Muslim, Nargis was from Mix family, Meena Kumar was Muslims, and Surya was Muslims.  Zeena Aman is not Hindus >

Now look at Movies Dilwale . Director Producers and Writers have almost stolen the movie story word by word, Scene by Scene even the Posters of the Movie is stolen from “Best Of Me”. Have they taken rights from Hollywood? If Hollywood done that Bollywood would have make big huge and cry in the greed of dollars. No wonder even world Film Industry always make fun of Hindu God and Goddess in the music video and Movies. We all know what happen to the Video “Innocence of Muslims” Do Hindus ever made a Movie on Prophet or Jesus?  I am saddened by the fact Sunny Deol always have acted from Heart about Indian Patriotism in the Movies and he is nowhere to seen? Why our own Hindus don’t get recognize for their looks and patriotism? Sorry to say Bollywood is Copy Cat, Trying to become popular and trying to make quick money. Now Mr Bansali directed to good Movie Bajirao Mastani however have r. Bansali learn to know the truth and real story of BajiRao? Any way I like the movie very much.  In the end I will say Bollywood Industry and Indian Media better stop presenting   stolen stories from Hollywood and let people know that you have taken rights of the Hollywood Movies and imitating Hollywood Movies. Otherwise one day Hollywood can also speak against all Bollywood Movie Makers. Stop accusing Hindu Protestors who have a courage and rights to defend the Indian history, Culture and maintain the old Civilization. (Gauri) Continue…..

Saturday, November 28, 2015

Who are Real Hero mere Actors or Soldiers? Kamlesh Chauhan ( Gauri)

Who are Real Hero mere Actors or Soldiers?
Kamlesh Chauhan ( Gauri)

Why we always make our movie actor our mentor, our hero or super hero? What they really do for us? Do they work free or do they serve the nation? Yes they work in the entertainment industry to make money, to get fame and name just like any other laborer in the world. What right they have to defame the nation they live in? Oh! Just becoz a public make them hero or super hero? King or Badshah?

Our Soldiers are dying every other day in the hands of Pakistan trained terrorists and we Indians in opposition parties are worrying about destroying India just becoz they have their own selfish agenda. They are foolishly against   ambitious, Aggressive, Hardworking Prime Minister who happens to be Hindus?  India has been Hindus for centuries and  we been invaded  by so many people due to our own humble, and trust in the fake friendships of invaders and our own personal animosity  among each other. Which is happening again now.  Learn from your past my Indian fellows. Stop your own Power Struggle. If we can have Zakir Husain as our president of India then what’s wrong having Hindu Prime Minister of India?  Abdul Kalam was the 11th President of India from 2002 to 2007. Which was removed by Congress Prime Minister Sonia Gandhi who was not even born in India.  People tolerated her but opposition has spread so much hatred against Hindu Prime Minister Modi worldwide who is trying to win the honoree and respect in the world. Are we losing our Vision for Developed India due to our own power struggle?  Janta whether you like or not, whether you happy or not at this moment  Modi is the need. If you see any opposition party is hindering any process in the parliament please bring those opposition leaders down. A congress leader who threatened the nation that there will be bloodshed if we bring change in the constitution, Why he is roaming free? Why he has not been arrested? He needs to bring down from his Position. He has no place in the Parliament. It’s a not a question of Party It’s a question of the nation.


LETS MAKE OUR HERO OUR MENTOR OUR SOLDIERS WHO MAKE LESS MONEY FROM THESE SO CALLED SUPER HERO OF INDIA. ACTORS ARE NOT ICON THEY ARE MERELY ENTERTAINER. STOP PAYING ATTENTION TO THEM. OUR SOLDIERS MAKE LESS MONEY STILL THEY ARE SERVING THEIR NATION. WHEN THESE ACTORS ARE SITTING IN THEIR AIR CONDITION HOME OUR SOLDIERS ARE SITTING IN THE SUN AND DEFENDING INDIA. WHEN THESE ACTORS ARE TRAVELLING FIRST CLASS FOR ABROAD OUR SOLDIERS ARE WAITING FOR THE BUS TOR TRAIN TO GO HOME? THINK HARD PEOPLE THINK HARD. STOP PAYING ATTENTION TO OPPOSITION AND MOVE STARS. LETS SUPPORT PM OF INDIA. HE CAN ONLY FULFILL HIS PROMISES AND HIS MANIFESTO. LET’S   PROTEST AGAINST THOSE OPPOSITIONS WHO ARE DELAYING THE PROCESS OF MAKING INDIA NEW AND PROGRESSED NATION. OUR SOLDIERS ARE OUR REAL HERO. LET’S ENCOURAGE THEM. WELCOME THEY SALUTE THEM WHEN YOU MEET ANY SOLDIERS. BOW YOUR HEAD TO THE SOLDIERS WHO ARE FIGHTING SUCH A DANGEROUS TERROR WAR IN OUR KASHMIR. ALL THEY NEED YOUR COOPERATION AND YOUR LOVE AND RESPECT. JAI HIND. BANDE MATRAM

Wednesday, November 4, 2015

घायल अपने मथुरा काशी ,घायल जमुना गंगा है:मनोज"मोजू"

घायल अपने मथुरा काशी ,घायल जमुना गंगा है
घायल अक्षरधाम हमारा घायल पड़ा तिरंगा है

घायल दिखता भारत माँ का उज्ज्वल सा वो भाल भी है
घायल दिखते पर्वत घाटी ,घायल नदिया ताल भी है
घायल केसर वाली घाटी , बौना है कानून जहा
भारत माँ के बेटो का ही बिखरा मिलता खून वहा
घायल अपनी मर्यादा और चोटिल संस्कार हुआ
लगता सूरज की किरणों पे जुगनू का अधिकार हुआ
उनकी तो गाली भी होती अभिव्यक्ति की आज़ादी
और हमारे भजनो पे भी रोक यहा पे लगवा दी
जनक के जैसे चीखे आती किले की प्राचीरों से
संशय मे पूछे क्या भूमि रिक्त हो गयी वीरो से
अपनी कायरता के कारण देखो ये क्या हाल हुआ
छलनी भारत माँ का आँचल घायल माँ का भाल हुआ
गीता रामायण पढ़ने की बात पे होता दंगा है .........
घायल अपने ......

घायल हुई है रामायण भी चिंतित दिखते राम अभी
दुश्मन के बाणो से खतरे मे लक्ष्मण के प्राण अभी
क्या रावण मनमाने ढंग से वेश बदल कर आयेगा
सीता जैसे भारत की बेटी को हर ले जाएगा
और कहा तक सहते रहना होगा अब उसके छल को
याद करो हे बजरंगी तुम भी अपने अतुलित बल को
चाहे कितने शीश हो दुश्मन के काटो अब गर्दन को
याद करो गोपाला के उस काली नाग के मर्दन को
हमको ज्ञान न देना कोई हम गीता के वाचक है
इस धारती के राजा हम है बाकी के सब याचक है
उनको खुश करने की खातिर ,खुद को चुप न कर लेंगे
धर्म की रक्षा खातिर अब हम नरसिंह रूप भी धर लेंगे
भीम रूप धर फाड़नी हमको दुर्योधन की जंघा है ..........घायल अपने ....

मनोज"मोजू"

Monday, October 12, 2015

मेरा रोष यह पुजनीय साहित्यकारों को जिन्होंने हिन्दु नाम को कलंकित किया। : लेखिका :कमलेश चौहान (गौरी )

मेरा रोष यह पुजनीय साहित्यकारों को जिन्होंने हिन्दु नाम को कलंकित किया। 

 लेखिका :कमलेश चौहान (गौरी )
लेखक की कलम कभी एक वर्ग के लिये कागज के पनो को काला नही करती।  साहित्य की कलम इंसाफ के डगर पर चलती है।  परन्तु आज शरम से सर झुक गया की हमारे बड़े बड़े साहित्यकारो ने बिना सत्य जाने अपना साहित्य अकदमी का पुरस्कार ऐसे वापिस किया जैसे की मरने वाले ने गाय के बछड़े को  चुराकर मारा नहीं काटा नही।  यह बात मै मानती हुं दोषी को मारने का हक किसी भी इन्सान को नहीं।  किसी को भी कानुन अपने हाथों में   नहीं लेना चाहिये लेकिन हिन्दु को अपने देश में अपने हिन्दु को नफरत की नज़र से देखा  जाता है।  कोई कहता कश्मीर भारत का हिस्सा  नहीं   है , कश्मीर भारत  का है होगा । उसे मालूम नहीं है ? अरे नेता तुम्हे इंजीनियरिंग का सर्टिफिकेट लिया ,  लेकिन काश्यप ऋषि की धरती कश्मीर की पवित्र धरती के बारे नहीं मालूम ? अशोका दी ग्रेट की धरती कश्मीर का नहीं मालुम ? गुरु तेग बहादुर ने अपने हिन्दु जनता लिये क़ुरबानी दी तुम्हे उसका नही  मालुम ? धिक्कार है तुम्हारी ऐसी डिग्री पर। 

कलम को हथियार बनाकर अपने भारत को शर्मनाक करने वाले साहित्यकारो , तुम पुरस्कार के काबिल ही नहीं थे। तुम्हारे देश के जवानों का सर काट कर ले गये आतंकवादी पड़ोसी , तब तुम्हारी कलम टुट गयी थी? क्या तुम्हारी उंगलियों ने १९८४ में सिख भाइयों और बहनों की पुकार सुनी थी दिल्ली में ? जिन्हे दिल्ली के हिन्दु भाइयों ने अपनी जान जोखीम डाल कर अपने सिख भाइयों को बचाया था। कहा गया था जब पड़ोसी के बहकावे में... आकर बसों से निकाल निकाल कर पंजाबी हिन्दु मासूमों को मारा गया था। इसके बावजुद भी सिख और हिन्दू भाई चारा कायम रहा। ओह लेखकों तुम्हारी कलम आज शर्मनाक है जो कश्मीरी हिन्दू औरतों के बलत्कार के किस्से तुम्हारी उंगलिया न लिख सकी। मासूम कश्मीरी हिन्दु के जिसमे के आतंकवादियो ने टुकड़े टुकड़े करके बेहरमी से उनके जिस्म टुकड़े को बेचा गया। जिस रात हिंदू को मारते थे उस रात मृत्यु नाच करते थे आतंकवादी।रोती हैं कश्मीर के धरती तुम गद्दारों की वज़ह से। तुम्हे रोना ना आया बल्कि अपने सैनिकों पर इल्ज़ाम लगाया ?
मुम्बई रेलवे स्टेशन से लेकर गली गली हमारे मासुम हिन्दु बच्चो को बेरहमी से मारा गया तब कहा था पुरस्कार लौटाना । ऐसे साहित्यकार लेखक नही हो सकते। जब बंगला देश में , पाकिस्तान में हिंदू की बेटी की इज़्ज़त लुटी जाती है , तब तुम्हारी कलम टूटू जाती है ? जब हमारा पड़ोसी हमारे कलाकारों को गाली देकर पाकिस्तान से बाहर निकाल देता है , तब कला के नाम पर तुम्हे आतंकवाद देश पाकिस्तान की राजनीति पर ज़ुबान नही खुलती ? आज भी देश तुम जैसे गद्दारो से भरा पड़ा है। हमारे लिखने पर हमें भारत से दुर रहने उल्हामा देते है। बी जे पी के नेता है या कांग्रेस या है गद्दार केजु पार्टी तुम सब शिव सेना को गाली देते हो , सैफरन पर इल्ज़ाम लगाते हो। आइने में जाकर अपना चेहरा देखो , आईना बता देंगा तुम और हम स्वार्थी है। जम्मू के हिन्दू के साथ बी जे पी , कांग्रेस और अब नया गद्दार धोखा कर रहे है। हमारे खून में गद्दारी कहा से आई है ? हमारी कलम में गद्दारी कहा से आयी? दुशमन तुम पर हज़ार साल गुलामी का थप्पड़ मारता है ,फिर भी हमें होश क्यों नहीं आता। (गौरी)

Friday, September 25, 2015

हिन्दी कार्य: मानसिक नक़्शा --- परीक्षा

हिन्दी कार्य: मानसिक नक़्शा --- परीक्षा: MIND MAP परीक्षा 1. दीवानी पद की परीक्षा   2. उम्मीदवार आए, जिन्होंने अपने चरित्र को झूठे रुप में बढ़ा - चढ़ा कर दिखाने की कोशिश की। 3.  पद ...

Thursday, September 17, 2015

बेवज़ह तेरी गली में : Copy right @Kamlesh Chauhan ( Gauri)लेखिका : कमलेश चौहान (गौरी)

बेवज़ह  तेरी गली में

Copy right @Kamlesh Chauhan ( Gauri)

लेखिका : कमलेश चौहान (गौरी)

कहाँ से लायू किताबे ज़ीस्त , कौन लिखेंगा तेरा नाम ?
मेरे   हाथो की लकीरों में
अंधेरो से गिला क्या  करू , उदय होते ही   उजले सूरज से 
दोनों हाथ जल गए थे सवेरे में
दिल की दहलीज़ पर सदियों से जो सुबह की कायनात सी
ख़ामोशी  छाई थी
ले जाकर किनारे पर  साहिल ने चुपके से सागर में
खुद ही नाव डुबोई थी
चले ले कर रहगुजर में मीठे  खवाबो का काफिला
दो अजनबी इक  साथ
बिन सोचे, बेख्याल , मदहोश, बेकाबू  हिसारो में कैद
मासूम ज़ज्बात
याद आये  वोह  रविंशे-गर्दोबाद तेज़ हवा के झोंके
मेरे कदम बेवजह तेरी गली में ले गए
न जाने क्या हुवा यह तो है मेरी  रूह के पहचाने दरो दिवार
बेखुद नासुबरी आ गए
शौके -बे -माया ने तुझे भी  शायद  जा नींद से जगाया होगा
सुनी जो  शबेतार में कदम की आहट
मेरी आँखों में थी तेरी रोशनी शायद चाँद निकल आया होगा
हलके हलके बढ़ने  लगी  दिलो की चाहत
तुम्हारी वफ़ा को करू मै सजदे , तकरार पर भी
रोक लेते हो रास्ता मेरा
 मेरी भीगी पलकों को  यु  चूम कर  मस्ती  में  मुस्करा  देते हो
चुमते है लब  मेरे नाम तेरा
आस दिलाते हो उन पालो की तुम और मै  का सरूर  होगा
सर्द रातो की लम्बी  रातो में खामोश चाँद  तारो का साथ होगा 
 
बस कर मेरे दिल की धड़कनों  में मेरा राज़ जाने वाले
तुझे हासिल करना
दो जहानों के फासलों में  दहकते ज़ज्बातो को जगाने वाले
दिन रात तेरे ख्वाब देखना
मेरे मुकदर में  अदब का लिखा कहर नहीं बदल सकता
जो बिगड़ जाते  है नसीबे तखली कंकारो के हाथो
वोह नसीब गुल्बदानो से संवारा नहीं जा सकता
सुन गौर से र्हर्बने शौक यह भरम की खावाबे राह्गुजर है
जिनकी तकदीरो में शिकस्ते मुसाफत
उनका वक़त बदले भी नहीं बदल सकता
बेहतर है इसे  इक रात का खोया   खवाब समझकर सुबह होते भूल जाना
रहे तेरी दुनिया आबाद यारब ,  मेरे हर गुनाह को नसीब की भूल समझ लेना। 
All Rights Reserved with Kamlesh ChauhanGauri. Nothing should be manipulated or exploited for any use of words, Ideas and sentiments.

Friday, May 22, 2015

Fir Tiranga Muskrata hai . Written by : Poet Jeffrey Partap

हटा नज़रे रूकसार ऐ यार से
के तुम्हे अब वतन बुलाता है
देश पे मरणो वालो का नाम
किताबो में लिखा जाता है
खुशनसीब हो तुम देश
के गर काम आ जाओ
शहीदों की मज़ारों पे
फिर तिरंगा भी मुस्करता ह
Jeffrey Partap

Thursday, March 5, 2015

" The daughter of India " or Shall The daughter of the world Documentary

" The daughter of India " or Shall The daughter of the world  Documentary :Written by Kamlesh Chauhan ( Gauri)
 
Rape is Universal Issue no doubt about it  . Every Nation has that problem .  Even developed nation like "U.S., Sweden, France, Canada, UK and Germany are the most immersed  in this crime." I am  glad at least in India people protest and India is also exposing such rapists .  When we look at the bigger picture  of crime against women , We cant undermine the crime in many part of Ethiopia.  What about Sri Lanka ?  Funny thing is rape was not crime in France until 1980.
 Now come down to Germany " Germany is on the number six in the highest rape crime with the figures of 6,507.394 , Which is really big figure"
 
United Kingdom is not behind in  violence and rape against women." in January 2013, the Ministry of Justice , Office for the National Statics  and Home office released its first ever joint office official statics bulletin on sexual violence, entitled an over view of sexual offending in England and Wales. Accordingly to the report Approximately 85,000 women are raped on average in England and Wales every  year"
 
Sweden is also very high in rapes in the world  as well as South Africa . Oh Film Maker has forgot the political rapes of  Kashmiri Hindus women in Kashmir India, In Bengla Desh , Pakistan, Trindad and Korea.
 
Yesterday when I saw the documentary " The daughter of India " I put down my head with shame where the real culture of India teaches to respect women. But I do find documentary with little discrimination where a Producer and Director showed the interview of Hindu men only what about that Non - Hindus who was the worse rapist , Dange...rous violent animal who hurt the young girl the most . Who insert the Rod inside? Even his name was not mentioned in the film. Why ? Why ? Tell me the Producer and Director ? Why his face and name was hidden ? Were you telling the world all Hindus are rapists ?Why the media of the world , India and BBC dint show the act and relay the name of that Juvenile ( who is no more Juvenile Now) . There is lot discrepancy in that documentary . A man who is also blaming the woman and questioning woman going to movie late night with her BF or husband . Who are these rapist to teach a lesson to women ? Who are they?. Even though I agree we woman should dress up appropriately but It should be a man who needs to learn how to control his urges even when the undress woman come in front of him . I have seen men enjoy using bad words in front of woman when she does not meet their requirement . I am so saddened this behavior . Even I understand the banning the documentary but what about the Bollywood who only shows us women with half dressed without any required scene. Bollywood has gone worse than Hollywood . At least in Hollywood Movies give instruction which movie is good for minors and which should not be seen by minors. Liberalism also have rules and regulation. Such documentary should be shown in the Colleges and Schools for discussion so we can change the news generation.
 
I do condemned when Bollywood dances are only focused on the body and the part of the women bodies and touched by all the actors . The first step is to teach your sons and daughters about growing up pains at home at the dinner table . Then let them watch Movie together so you can explain the kids what is acceptable what is not then every school should have a S* education at the time of puberty for both boys and girls . There should be sextual harrasment guide at every office .
 
Note:   I thank Wonderlist on the internet where I used the stats of  Rapes in the world in this article . As the Wonderslist mention in their articles that 6% of rapist ever serve a day in Jail. I have quotation marked the report I have posted in this article to justify my voice in this article .

Wednesday, February 11, 2015

ओह! शहीदो की जलती चिता को भुलने वालो :लेखिका : कमलेश चौहान (गौरी )

ओह! शहीदो की जलती चिता को भुलने  वालो 
लेखिका : कमलेश चौहान (गौरी )

Copyright@Kamlesh Chauhan(Gauri)

लगी यु गहरी चोट जिगर पर जब जब मेरा प्यारा वतन ज़ख़्मी हुआ। 
किसी ने किये टुकड़े वतन के किसी ने राम का नाम बदनाम किया।
 
ओह! शहीदो की जलती चिता को भुलने वालो देश के नादानों 
सीमा पर गोली झेलने वालो की कुर्बानी का भी कभी सोचा  तुमने।
 
कौमो ,मज़हबों पर बाँट दिया देश  हर गली में फैला दी अराज़कता 
पहन ईमानदारी का फरेबी लिबास, चुपचाप  रहा  दुश्मनो को पालता। 
 
माँ के पेट को काटने वालो  ,सुनो गौर से ताज़ को  निर्लज तोड़ने वालो  
 पंजाब भारत माँ का पेट कश्मीर है ताज हिमालय की और तकने वालो।
 
इतनी जल्द भुल गये ?गोरी ,गजनवी के ज़ुलम सोमनाथ के चीख़ती आवाजें 
तलवार की नोक पर धर्म को बदला हिंदुकुश में बहती माँ की मासुम औलादे
 
लुटी कश्मीर में कश्मीरी हिन्दु माँ बेटी  की इज़्ज़त लाशें  जेहलम के लेहरो में
फिर से कौन सियार चीखा है बाटने देश को  राजधानी दिल्ली के हर कोने में। 
 
उठो देशवासियों  ! जागो रोक  लो  वतन को उत्थान से भयानक पतन की और
ले कर वतन के लिये ज़ज़्बाये जिगर सुनो अर्जुन कृष्ण की वानी का मीठा हिलोर।
 
 Note :भाईयो मुझे वाह  वाह नहीं चाहिये मुझे भारत माँ की जय और तिरंगे के तीन रंग चाहिये , गद्दारो को देश से भागने की कसम चाहिये।
मुझे तुम्हारा साथ चाहिये।  माथा झुकाती हु सरस्वती माँ को मेरी टुटी फुटी कलम को तलवार बना दो मेरे भाईयो 

Tuesday, February 10, 2015

दिल्ली तेरी यह आदत बहुत पुरानी है।

लेखिका : कमलेश चौहान (गौरी )

सदियों से चली आयी है दिल्ली की एक रीत
हुई दिल्ली  भंग दुश्मनों के संग  की तूने प्रीत
 
 तुम्हारी खोट बनी बल फिर से  दुश्मन की तलवार
लो शुरू हो गया भारत माता के सम्मान पर  वार

 आज की बात नही दिल्ली तेरी यह आदत सदियों पुरानी है
 कल भी की थी बर्बादी  तुने आज भी देश की तबाही ठानी है।
 
 सुना  है तेरे राज्य में आज भी आई है  गद्दारो की बहार
 मिलकर जो देश के टुकड़े  टुकड़े करने को  हुई तैयार ।

तु तो अपनी हो कर बनी दुश्मन तो अब गैरो से क्या गिला
वाह!मेरी दिल्ली दहशत गर्दो से तुम्हे इनाम अब झाडु मिला।
Copyright@Kamlesh Chauhan(Gauri)