Fir Tiranga Muskrata hai . Written by : Poet Jeffrey Partap

हटा नज़रे रूकसार ऐ यार से
के तुम्हे अब वतन बुलाता है
देश पे मरणो वालो का नाम
किताबो में लिखा जाता है
खुशनसीब हो तुम देश
के गर काम आ जाओ
शहीदों की मज़ारों पे
फिर तिरंगा भी मुस्करता ह
Jeffrey Partap

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

भारत माँ की आँखों के आंसू , शहीदों के नाम लेखिका : गौरी

नयी पीढ़ी , नयी फसल ,, नयी हड्डिया और पुराणी हड्डिया : Lekhika Gauri

देश की माताओं ,देश की बेटियों ,बढ़ायो कदम पुरुषों के संग:कमलेश चौहान (गौरी) COPY RIGHT AT: Kamlesh Chauhan ( Gauri