Monday, February 21, 2011

वोह निकला चाँद पूरनमाशी का लेखिका : कमलेश चौहान (गौरी )

वोह  निकला  चाँद पूरनमाशी का  

लेखिका : कमलेश  चौहान  (गौरी )

Copyright@2011

खिड़की  में  खड़ी  कुछ यु  ही ताने बाने  बुन रही थी
बार बार गुजरे लम्हों की  परछाईया  तले खोयी थी

वोह समुंदर का किनारा यहाँ हम  साथ साथ चले थे
मुलाकातों के दामन में आँखों में नशा कुछ तबसुम थे

आज कुछ ऐसा आलम है तू नहीं तेरी यादे पुकारती है
गुजर जाती है सुबह हर शाम जुबान तुझे आवाज देती है

दीवारों को तनहाई  में तुम्हारी पुरानी बाते  सुनाती हु 
धुप में देख अपना ही साया कल की  बात कहती हु

                  सुनी मेरे चाँद ! कल रात की बात

आह ! कल निकला गज़ब का असमान में पूरनमाशी का चाँद था
आँखों में छाया तेरे नाम का खुमार, जिस्म में अजीब सा तनाव था

तुम तो कहीं दूर थे , पर तुम क्या जानो  वोह  चाँद धरती के बहूत  करीब था
ख़ामोशी से जुबान कह उठी , उफ़ ! दुनिया बनाने वाले  तेरी कुदरत का कमाल था

फिर उभरा सीने में  भुला बिसरा  दर्द , फिर आयी  वोह पूरनमाशी की रात की याद 
जिस रात तुने  सुनाया  मज़बूरी का साज ,टूट गया हमदोनो का सुहाना  खवाब

चांदनी रातो में यु रो  कर, मुझे  यु झूठी  तसली दे कर,  तुम मुझसे जुदा हो गए थे
अपने दामन से तेरी  आँखों के आंसू पोषती  रही , तुम जब  दूर अन्धेरो में खो गए थे

पूरनमाशी की रात आज भी है , मेरी आँखों में  वोह नमी आज भी है
तू नहीं है मेरे पास तेरी आँखों में छलकते आंसुवो की तस्वीर आज भी है










2 comments:

  1. Aravind aap to savyam ek mane huve unch koti ke sahitayekar ho apse sun kar dil ko bahoot acha lagga. Dhanayavad apka

    ReplyDelete